बचपन के दिन क्यों सुहाने होते हैं?

124
बचपन के दिन क्यों सुहाने होते हैं और हर ख़ुशी हर गम से बेगाने होते हैं, क्योंकि बच्चे प्रत्येक परिस्थिति में आनंद उठाना जानते हैं।
बच्चों में भूलने और क्षमा करने की जबरदस्त क्षमता होती है। आप किसी बच्चे को एक चाँटा दे भी देंगे तो थोड़ी देर रोकर वह फिर आपके साथ खेलने लगेगा मानो कुछ हुआ ही नहीं हो।
एक बालक कागज की नाव पाकर चहकने लगता है, जबकि बड़े एक असली जहाज पाने के बाद  दूसरे जहाज  के लिए बेचैन हो जाते हैं।
बच्चे हमेशा वर्तमान में जीते हैं, जबकि बड़े भूतकाल की गलतियों और भविष्य की आशंकाओं के भारी बोझ से दबकर कराहते रहते हैं।
आइये कुछ पलों के लिए अपनी समस्याओं को भूलकर इस  नाचती प्यारी गुड़िया के साथ अपने बचपन में लौट जाएँ।
शेयर करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here