अपना मस्तक ऊँचा रखें

     आप अपने व्यक्तित्व को दो प्रकार से  निखार सकते हैं। 1. अपने कार्यकलापों को बदल दें। 2. अपने विचारों को बदल दें। एक विश्वप्रसिद्ध कहावत है,"...

अलविदा अवसाद

  हे  प्रभु , मुझे  धैर्य  दीजिये ताकि  मैं  उन  चीजों  को स्वीकार  कर  लूँ , जिन्हें  मैं  नहीं बदल  सकता हूँ ; मुझे  शक्ति...

हिम्मतवाला मांगे माफी

कुछ इस तरह मैंने ज़िंदगी को आसान कर लिया, किसी से माँग ली माफ़ी, किसी को माफ़ कर दिया।                  ...

अवसाद से आरम्भ और उल्लास से अंत।

4 मार्च, 2017 को बिस्तर छोड़ते समय मैं बेहद दुखी था । मेरा पूरा शरीर आलस से सराबोर था। किसी काम में मन नहीं...

न रिवाल्वर ने मारा, न रंगदार ने मारा

   उसे न तो रिवाल्वर ने मारा, न रंगदार ने मारा, उसे तो उसी के अति-आशावाद ने मार गिराया। वह गोरा-चिट्टा और लम्बा महत्त्वाकांक्षी युवक अत्यंत...

जिधर देखो उधर ही अवसर

 मैं खुद से जो सवाल हर दिन पूछता हूँ,क्या मैं वो सबसे ज़रूरी काम कर रहा हूँ जो मैं कर सकता हूँ?     ...

आज की प्रार्थना

हे प्रभु, आपका कोटि-कोटि आभार !आज मैं साँसे ले रहा  हूँ। आज मेरे सपनों को साकार करने के लिए सुअवसर है। आज मैं अपने साधनों का सदुपयोग...

HOLD YOUR HEAD HIGH

We can improve our personality by adopting two methods, either by changing our thoughts or by changing our actions.Recall the famous adage," Show a thought,...

दूसरा विध्वंशकारी वाक्यांश ” मैंने सोचा। “

 "मैंने सोचा" भी समय बर्बाद करने वाला, उपयोगहीन और विध्वंशकारी वाक्यांश है। हममें से अनेक न तो  कोई जांच करते हैं ना ही  अपनी नजरें चारों...

तिसरा विध्वंशकरी वाक्यांश “चलता है”

 पहले हम दो  विध्वंशकारी  वाक्यांशों "बस एक बार" और "मैंने सोचा" के बारे में बता चुके हैं। आज हम तीसरे  विध्वंशकारी  वाक्यांश "चलता है"...