जिधर देखो उधर ही अवसर

 मैं खुद से जो सवाल हर दिन पूछता हूँ,क्या मैं वो सबसे ज़रूरी काम कर रहा हूँ जो मैं कर सकता हूँ?     ...

आज की प्रार्थना

हे प्रभु, आपका कोटि-कोटि आभार !आज मैं साँसे ले रहा  हूँ। आज मेरे सपनों को साकार करने के लिए सुअवसर है। आज मैं अपने साधनों का सदुपयोग...

नहीं सुनकर हिम्मत नहीं हारें ।

किसी से कुछ माँगते हुए हम प्रायः काफी संकोच करते हैं. अधिकांश मामलों में यह शंका एकदम निराधार होती है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी...

अपने साथियों को अंतर्यामी न समझें ।

 हमारे साथी भी हमारी तरह इंसान ही हैं, कोई सिद्ध योगी नहीं हैं, लेकिन बदहवासी में एक बार अपने परिवार के सदस्यों को मैनें  अंतर्यामी  समझने की...

सस्ते में ईलाज कैसे करायें ?

दुर्भाग्यवश अनेक चिकित्सकों ने चिकित्सा को ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाने का  साधन बना लिया है। वे अपना दवाखाना रखते हैं और ऐसी दवाइयाँ लिखते...

बीमारियों में जड़ी-बूटियों का उपयोग, कितना उचित ?

मुझे मधुमेह हुआ तो मेरे अनेक शुभचिंतकों ने अनेक प्रकार की जड़ी-बूटियों के बारे अवांछित सलाह दी। मेरे एक मित्र ने पूरे विश्वास के...

इंसान या सामान ?

मेरे गांव के लोग बहुत अच्छे थे और दुःख-सुःख में घुल-मिल कर रहते थे। हमलोग बड़े विनोदी स्वभाव के थे और लोगों को अजीब नामों से पुकारते थे, जिनको...

दूसरा विध्वंशकारी वाक्यांश ” मैंने सोचा। “

 "मैंने सोचा" भी समय बर्बाद करने वाला, उपयोगहीन और विध्वंशकारी वाक्यांश है। हममें से अनेक न तो  कोई जांच करते हैं ना ही  अपनी नजरें चारों...

तिसरा विध्वंशकरी वाक्यांश “चलता है”

 पहले हम दो  विध्वंशकारी  वाक्यांशों "बस एक बार" और "मैंने सोचा" के बारे में बता चुके हैं। आज हम तीसरे  विध्वंशकारी  वाक्यांश "चलता है"...

‘बस एक बार’ एक विध्वंशकरी वाक्यांश

 'बस एक  बार', संभवतः इस संसार का सबसे ज्यादा नकारात्मक और विनाशकारी वाक्यांश  है।कोई कहता है कि  'बस एक  बार', मैं पांच मिनट और सो लेता हूँ,...