वर्तमान साधेंगे, ब्रह्माण्ड सधेगा।

बीता कल इतिहास है, आने वाला कल रहस्य है। और आज? आज ईश्वर का उपहार है। इसीलिए इसे "Present " कहते हैं।  --- बी. ओलातुनजी। 

135

वर्तमान साधेंगे, ब्रह्माण्ड सधेगा।आप आज जो भी कर रहे हैं, यह आपके आने वाले कल को सुधार सकता है..

— राल्फ मास्टर्न।

वर्तमान  के महत्व को दर्शाती हुई अंग्रेजी में एक प्रसिद्ध कहावत है ,” अपने  पुल  तभी पार करें, जब आप वहाँ  पहुँचे। “

प्रत्येक पुल  वर्तमान साधने का प्रभावशाली उदाहरण प्रस्तुत करता है।  उदाहरण के लिए  हावड़ा  पुल  को ही लीजिये।  इस पर चालीस लाख पैदल चलने वाले और लगभग डेढ़ लाख गाड़ियां प्रतिदिन पार करती हैं।  अगर कल पार की हुईं सारी  सवारियाँ  और आने वाले कल में आने वाली सारी  सवारियाँ पुल पर एक साथ  इकट्ठा  हो  जायेंगी  तो क्या होगा? शायद  1943 से सीना तने खड़ा यह शक्तिशाली पुल  माचिस की डिब्बी की तरह धराशायी हो जायेगा।

हमारी मानसिक  वेदनाओं  का  भी यही  मुख्य कारण  है।  हम वर्तमान की समस्याओं , भूत काल  के पश्चातापों और भविष्य की आशंकाओं का बोझ एक साथ अपने मस्तिष्क पर डाले रहते हैं।

किसी ने सच ही कहा है कि  भूत काल लैप्स्ड चेक है और भविष्य काल पोस्ट-डेटेड चेक है।  सिर्फ वर्तमान ही ऐसा चेक है जिसे आप अभी भुना सकते हैं।
बीता  हुआ कल कभी हमारा वर्तमान था , जिन्होंने उसका सदुपयोग किया , उनकी भूतकाल की यादें भी मधुर बन गयीं।  जो आज वर्तमान का पूर्ण दोहन कर रहे हैं , वे  भविष्य  में आने वाले आज का भी  भरपूर उपयोग  करेंगे।

अतः  वर्तमान पर  ध्यान एकाग्र करने की आदत आपके भूतकाल की यादों के साथ-साथ आपका भविष्य भी सुनहला बना देगी।यद्यपि भूतकाल से सबक लेना और SWOT विश्लेषण कर भविष्य की योजनाएँ बनाना वर्तमान का सदुपयोग ही कहलाता है।

वर्तमान पर ध्यान एकाग्र करने की आसान विधि यह है कि जब भी  आपका मस्तिष्क खाली  हो , “वर्तमान साधेंगे , ब्रह्माण्ड सधेगा ” पूरी तन्मयता के साथ  नारे की तरह दुहराते रहिये।  यदि आप एकांत में हैं तो थोड़ी ऊँची आवाज में दुहराइये ताकि आपके कान  भी इस विचार को आपके अवचेतन मन में बैठाने में आपकी मदद करें।  कुछ दिनों में  भूतकाल और भविष्य की प्रताड़नाओं से  आप काफी हद तक मुक्त हो जायेंगे।
नोट: SWOT  विश्लेषण का मतलब STRENGTH, WEAKNESS, OPPORTUNITY तथा THREATS का विश्लेषण है।

 

शेयर करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here